Pandit Pradeep Mishra: (कुबेरेश्वर धाम) एक लोटा जल प्रदीप मिश्रा का घर, पत्नी, कॉन्टेक्ट नंबर

पंडित प्रदीप मिश्रा जी कौन है ? (who is pandit pradeep mishra)

ज्योतिष की दुनिया में एक नाम Pandit Pradeep Mishra दीपक की तरह चमकते हैं। एक प्रतिष्ठित ज्योतिषी और दूरदर्शी, उन्होंने खगोलीय पिंडों और मानव जीवन पर उनके प्रभाव की अपनी गहरी समझ के माध्यम से अनगिनत लाखो लोगों के दिल और दिमाग को मोहित कर लिया है। यह लेख ज्योतिष की आकर्षक दुनिया और आधुनिक समय में इसकी प्रासंगिकता पर प्रकाश डालते हुए पंडित प्रदीप मिश्रा के जीवन, योगदान, तकनीकों और प्रभाव पर प्रकाश डालता है।

ज्योतिष Pandit Pradeep Mishra एक प्रसिद्ध शिव भक्त और शिव कथावाचक है। मिश्रा जी अपने शिव भक्ति भजनों के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है. उनका उपनाम रघु राम है. उन्होंने स्थानीय हाई स्कूल में पढ़ाई की है. इनकी अधिकतम शिक्षा स्नातक उत्तीर्ण है. वह सीहोर मध्य प्रदेश के स्थाई निवासी हैं. हाल ही में इन्हें अंतरराष्ट्रीय संत की उपाधी दी गई है। शिव कथाकार मिश्रा जी आस्था चैनल में भजन और आरती के प्रस्तुतकर्ता भी हैं. दोस्तों यह कहा जा सकता है कि, भक्ति, एक शांत समय है जिसे आप प्रार्थना करने, परमेश्वर के वचन को पढ़ने और उसके साथ अपने संबंधों को प्रतिबिंबित करने में व्यतीत करते हैं.


Pandit Pradeep Mishra family/ प्रदीप मिश्रा जी का परिवार:

इस ज्ञानवर्धक लेख में प्रदीप मिश्रा के परिवार की समृद्ध विरासत और इतिहास का अन्वेषण करें। उनके शानदार वंश को खोजने के लिए अभी क्लिक करें।

पूरा नाम ( Full name) पंडित प्रदीप मिश्रा जी
जन्म (Date of Birth) सन 1980
आयु (Age) 43 साल 2023 के मुताबिक
जन्म स्थान (Birth Place)  जन्म भूमि – सीहोर, मध्य प्रदेश, भारत
पेशा (Occupation) श्री प्रदीप मिश्रा एक प्रसिद्ध शिव भक्त और शिव कथावाचक है
पत्नी का नाम( wife Name) सुनीता
शिक्षा ( Education) कालेज की शिक्षा (ग्रेजुएट)
 धर्म हिंदू धर्म
बच्चे कितने हैं प्रदीप मिश्रा जी के दो बेटे हैं पहला बेटा (राघव मिश्रा (Raghav Mishra) दूसरा बेटा माधव मिश्रा (Madhav Mishra)
मोबाइल नंबर 8602351355, 070007 12991

मिश्रा जी का परिवार प्रदीप मिश्रा के माता-पिता प्रदीप मिश्रा के पिता श्री रामेश्वर दयाल जी मिश्रा प्रदीप मिश्रा की माता श्रीमती सीता मिश्रा जी
प्रदीप मिश्रा जी के भाई बहन प्रदीप मिश्रा जी के भाई दीपक मिश्रा और विनय मिश्रा
प्रदीप मिश्रा का जश्न: पुरस्कार और सम्मान प्रदीप मिश्रा पुरस्कार और सम्मान राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने ‘चेंपियंस ऑफ चेंज मध्य प्रदेश समाज कल्याण,स्वास्थ्य,खेल के क्षेत्र की 16 उत्कृष्ट अध्यात्म के लिए प्रसिद्ध श्री प्रदीप मिश्रा जी महाराज को सम्मानित किया गया
प्रदीप मिश्रा की रुचियों प्रदीप मिश्रा की रुचि कथावाचक

Pandit Pradeep Mishra (पंडित प्रदीप मिश्रा जी) का जन्म – मध्य प्रदेश के सीहोर में उनका जन्म 1980  में हुआ था !


Pandit Pradeep Mishra
Pandit Pradeep Mishra

 पंडित प्रदीप मिश्रा जी संपर्क नंबर/pandit pradeep mishra ji contact number:

आज के डिजिटल युग में, contact number संपर्क जानकारी व्यक्तियों और व्यवसायों को जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। चाहे आप आध्यात्मिक मार्गदर्शन, ज्योतिषीय सलाह मांग रहे हों, या बस जीवन के सवालों के जवाब चाहते हों, सही contact number संपर्क जानकारी तक पहुंच आवश्यक है। ऐसे ही एक व्यक्ति हैं जिन्होंने अपनी बुद्धिमत्ता और अंतर्दृष्टि के लिए ख्याति अर्जित की है, वह हैं पंडित प्रदीप मिश्रा जी। इस लेख में, हम पंडित प्रदीप मिश्रा जी की संपर्क जानकारी का पता लगाएंगे, और उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं के बारे में विस्तार से जानेंगे, जिससे उन्हें एक वफादार अनुयायी मिला है।


: कौन हैं प्रदीप मिश्रा जी की पत्नी/Pandit Pradeep Mishra wife :

एक प्रसिद्ध व्यक्ति प्रदीप मिश्रा ने अपने असाधारण काम के लिए बहुत ध्यान आकर्षित किया है। हालाँकि, हर सफल आदमी के पीछे एक समान रूप से उल्लेखनीय महिला खड़ी होती है। इस लेख में, हम आदरणीय श्रीमती सुनीता जी है मिश्रा के जीवन पर प्रकाश डालते हैं, उनके प्रारंभिक जीवन, उनके योगदान और प्रदीप की यात्रा पर उनके प्रभाव की खोज करते हैं। आइए उस व्यक्ति की खोज करें जिसने प्रदीप मिश्रा के जीवन को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।


 पंडित प्रदीप मिश्रा जी सोशल मीडिया लिंक/Pandit Pradeep Mishra – Social Media Links:

facebook

instagram

youtube

twitter

amazon शिवलिंग

Aastha Channel 


सीहोर से पंडित प्रदीप मिश्रा जी
ज्योतिष पंडित श्री प्रदीप मिश्रा एक प्रसिद्ध शिव भक्त और शिव कथावाचक है। मिश्रा जी अपने शिव भक्ति भजनों के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है. उनका उपनाम रघु राम है. उन्होंने अपनी पढ़ाई स्थानीय हाई स्कूल में की है. इनकी अधिकतम शिक्षा स्नातक उत्तीर्ण है. वह सीहोर मध्य प्रदेश के स्थाई निवासरत हैं. हाल ही में इन्हें अंतरराष्ट्रीय संत की उपाधी दी गई है। शिव कथाकार मिश्रा जी Aastha Channel में धर्मगीत और आरती के प्रस्तुतकर्ता भी हैं. दोस्तों यह कहा जा सकता है कि, भक्ति, निष्ठा,लगन,प्रेम, एक शांत समय है जिसे आप उपासना करने, परमेश्वर के अनमोल वचन को पढ़ने और उसके साथ संबंधों को प्रवर्तित,प्रतिबिंबित करने में व्यतीत करते हैं.

पंडित प्रदीप मिश्रा जी कौन हैं/who is pandit pradeep mishra:

पंडित प्रदीप मिश्रा जी ज्योतिष को कौन नहीं जानता है प्रसिद्ध भजन प्रस्तुतकर्ता और कथाकार हैं I पंडित प्रदीप मिश्रा जी अपने भजन के लिए सुप्रसिद्ध है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भक्ति कथाकार होने के साथ साथ भजन प्रस्तुत करते हैं I उनकी कथा विश्व प्रसिद्ध है ऐसे में इस महान ज्योतिष पंडित मिश्रा के जीवन के बारे में जानने की उत्सुकता लोगों के मन में बढ़ रही होगी किज्योतिष पंडित श्री प्रदीप मिश्रा एक प्रसिद्ध शिव भक्त और शिव कथावाचक है!


प्रदीप मिश्रा की कथा कहाँ चल रही है 2023/pandit pradeep mishra ki katha:

पंडित प्रदीप मिश्रा जी की अगली कथा / Pandit Pradeep Mishra शिव भक्त और शिव कथावाचक शिवमहापुराण कथा की तारीख 02 जनवरी २०२३ से 25 दिसम्बर से 31 दिसम्बर 2023 तक:

Pandit Pradeep Mishra जी की अगली कथा कथा की तारीख ज्योतिष कथा स्थल
02 जनवरी 2023 से 08 जनवरी 2023 तक कथा स्थल कोंकड़ी (छत्तीसगढ़)
13 जनवरी 2023 से 17 जनवरी 2023  तक कथा स्थल परभणी (महाराष्ट्र)
23 जनवरी 2023  से 29 जनवरी 2023 तक कथा स्थल हलोल (गुजरात)
30 जनवरी 2023 से 31 जनवरी 2023 तक कथा स्थल प्रयागराज (उत्तर प्रदेश)
02 फरवरी 2023 से 08 फरवरी 2023 तक कथा स्थल बुरहानपुर (मध्यप्रदेश)
16 फरवरी 2023 से 22 फरवरी 2023 तक कथा स्थल सीहोर (मध्यप्रदेश)
28 फरवरी 2023 से 06 मार्च 2023 तक कथा स्थल बेटमा (मध्यप्रदेश)
14 मार्च 2023 से 20 मार्च 2023 तक कथा स्थल दनकौर, ग्रेटर नोएडा (उत्तर प्रदेश)
24 मार्च 2023 से 28 मार्च2023 तक कथा स्थल कोटेश्वर (मध्यप्रदेश)
04 अप्रैल2023 से 10 अप्रैल 2023  तक कथा स्थल उज्जैन (मध्यप्रदेश)
14 अप्रैल 2023  से 20 अप्रैल 2023 तक कथा स्थल देपालपुर  (मध्यप्रदेश) ज्योतिष कथा
25 अप्रैल 2023  से 01 मई 2023 तक कथा स्थल भिलाई (छत्तीसगढ़)
05 मई 2023 से 11 मई 2023 तक कथा स्थल आकोला, (महाराष्ट्र)
17 मई 2023 से 23 मई 2023 तक कथा स्थल पशुपति नाथ (नेपाल)
01 जून 2023 से 07 जून 2023 तक कथा स्थल औरंगाबाद (महाराष्ट्र)
10 जून 2023 से 14 जून 2023 तक कथा स्थल भोपाल (मध्यप्रदेश)
19 जून 2023 से 25 जून 2023 तक कथा स्थल खगरिया (बिहार)
01 जुलाई 2023 से 03 जुलाई 2023 तक कथा स्थल सीहोर (मध्यप्रदेश)
05 जुलाई 2023 से 11 जुलाई 2023 तक कथा स्थल पुष्कर जी (राजस्थान)
12 जुलाई 2023 से 18 जुलाई 2023 तक कथा स्थल अलवर (राजस्थान)
22 जुलाई 2023  से 28 जुलाई 2023 तक कथा स्थल मैनपुरी (उत्तरप्रदेश)
01 अगस्त 2023 से 07 अगस्त 2023  तक कथा स्थल तिल्दा, नेवरा (छत्तीसगढ़)
18 अगस्त से  2023  24 अगस्त 2023 तक कथा स्थल सुवासरा (मध्यप्रदेश)
28 अगस्त 2023 से 01 सितम्बर 2023 तक कथा स्थल बालोद (छत्तीसगढ़)
28 अगस्त2023  से 01 सितम्बर 2023 तक कथा स्थल राजनंद गावं (छत्तीसगढ़)
24 सितम्बर 2023 से 30 सितम्बर 2023 तक कथा स्थल सीहोर (मध्यप्रदेश)
07 अक्टूबर 2023 से 13 अक्टूबर 2023 तक कथा स्थल कोरिया (छत्तीसगढ़)
15 अक्टूबर 2023 से 21 अक्टूबर 2023 तक कथा स्थल स्थान निश्चित नहीं है
26 अक्टूबर 2023 से 01 नवम्बर 2023 तक कथा स्थल खंडवा (मध्यप्रदेश)
26 अक्टूबर 2023 से 01 नवम्बर 2023 तक कथा स्थल प्रयागराज (उत्तर प्रदेश)
05 दिसम्बर 2023  से 11 दिसम्बर 2023 तक कथा स्थल जलगावं (महाराष्ट्र)
25 दिसम्बर 2023  से 31 दिसम्बर 2023 तक कथा स्थल बरेली (उत्तरप्रदेश)

Pandit Pradeep Mishra/प्रदीप मिश्रा का बेटा कौन है:

इस आकर्षक और जानकारीपूर्ण लेख में, हम प्रदीप मिश्रा के दोनों बेटे (प्रदीप मिश्रा के बेटे) से जुड़े रहस्य को उजागर करेंगे। प्रदीप मिश्रा के बेटे की पहचान कई लोगों के बीच जिज्ञासा का विषय रही है और हमारा लक्ष्य इस रहस्य को उजागर करने के लिए सटीक और विश्वसनीय जानकारी प्रदान करना है। प्रदीप मिश्रा जी के दो  बेटे हैं (1 राघव मिश्रा (Raghav Mishra) और दूसरा है 1 माधव मिश्रा (Madhav Mishra) और प्रदीप मिश्रा के बेटे के पीछे की सच्चाई पंडित प्रदीप मिश्रा जी के बेटे का नाम  राघव मिश्रा शारदा है जोकि अध्ययनरत विद्यालय शारदा विद्या मंदिरसीहोर के छात्र हैं ।


Pandit Pradeep Mishra/मिश्रा जी की शिव पुराण की कथा कितने दिन की होती है:

प्रदीप मिश्रा के अनुसार शिव महापुराण में सात सहिताएं हैं इसलिए इसका पाठन सात दिनों तक किया जाता है । श्रावण का महीना भगवान शिव शंकर का पसंद हैं इसलिए शिव महापुराण का पाठ श्रावण महीने में अधिक फल दायक माना गया है । इसके अलावा आप कभी भी इसका अधयन्न करना चाहे, तो आप सभी सोमवार को शिव महापुराण का अधयन्न करना शुरू कर सकते हैं।


सोमवार की अष्टमी को क्या करना चाहिए:

सोमवार अष्टमी वाले दिन 108 बार महामृत्युंजय मंत्र का जाप से भगवान शिव जी की हम पर विशेष कृपा प्राप्त होती है. सोमवार की अष्टमी के दिन शिवलिंग पर गाय का कच्चा दूध अर्पित से विशेष लाभ प्राप्त होती है


बागेश्वर धाम धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय


 पंडित प्रदीप मिश्रा जी के उपाय/Remedies of Pandit Pradeep Mishra:

पंडित प्रदीप मिश्रा जी के उपाय / मंगलवार-बुधवार को न लें कर्ज

प्रदीप मिश्रा जी कहते है कि मंगलवार और बुधवार को लिया गया कर्ज कभी नहीं ख़त्म नहीं होता , ऐसे में इन दो दिनों के समय में कर्ज ना लेने की परामर्श दी जाती है। ऋण से छुटकारा पाने के लिए मंगलवार को भगवान श्री शिव को मसूर की दाल चावल चढ़ाते हुए ॐ ऋणमुक्तेश्वर महादेवाय नम: मंत्र का जप करना आवश्यक है ।


पंडित प्रदीप मिश्रा जी के उपाय / नोकरी नहीं लग रही तो करे उपाय :

क्या आप अपने सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद नौकरी ढूंढने के लिए संघर्ष कर रहे हैं? खीजो नहीं! रोजगार सुरक्षित करने की यात्रा वास्तव में चुनौतीपूर्ण हो सकती है, लेकिन सही रणनीतियों और सकारात्मक मानसिकता के साथ, आप अपनी रोजगार क्षमता बढ़ा सकते हैं और अवसरों के नए दरवाजे खोल सकते हैं। इस लेख में, हम आपके सपनों की नौकरी पाने की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए विभिन्न युक्तियों और तकनीकों का पता लगाएंगे।


इन्हें भी पढ़े :

शिव चमत्कार –  शिव जी कृपा से करण की किडनी ठीक हुई

जीवन की सच्चाई पर 551+ अनमोल वचन | Best Anmol Vachan in Hindi – अनमोल विचार

आस-पास कहाँ-कहाँ रेस्टोरेंट मौजूद हैं – यहाँ 01 click करें और जाने

Vibes Meaning In Hindi: वाइब्स का हिंदी में मतलब?


FAQ’s

प्रदीप मिश्रा की कथा कितने बजे चालू होगी?

साहित्य की दुनिया में एक प्रसिद्ध नाम प्रदीप मिश्रा ने अपने असाधारण कहानी कौशल से पाठकों को मंत्रमुग्ध कर दिया है। भावनाओं से गूंजने वाली और आत्मा को छूने वाली प्रदीप मिश्रा की कथा उनकी क्षमता वास्तव में उल्लेखनीय है। उनकी कथा कहने का एक आकर्षक पहलू उनकी कहानियों का त्रुटिहीन समय है, जो पढ़ने के अनुभव में गहराई और तीव्रता जोड़ता है। इस लेख में, हम प्रदीप मिश्रा के समय के विशेषज्ञ उपयोग पर ध्यान केंद्रित करते हुए, कथा “प्रदीप मिश्रा की कहानी” (प्रदीप मिश्रा की कहानी) को एक प्रमुख उदाहरण के रूप में उपयोग करते हुए, कथा कहने की कला पर गहराई से विचार करेंगे।

  1. प्रदीप मिश्रा क्यों प्रसिद्ध है?

प्रदीप मिश्रा की प्रमुखता का श्रेय उनकी असाधारण प्रतिभा, समर्पण और बदलाव लाने की प्रतिबद्धता को दिया जा सकता है। उनके योगदान ने न केवल उनके क्षेत्र को आगे बढ़ाया है बल्कि अनगिनत व्यक्तियों के जीवन को भी समृद्ध बनाया है।

     2. प्रदीप मिश्रा के परिवार में कौन कौन है?

     3.कैसे पता चलेगा कि रुद्राक्ष असली है या नहीं?

रुद्राक्ष की माला, जो अपने आध्यात्मिक महत्व और उपचार गुणों के लिए जानी जाती है, सदियों से विभिन्न संस्कृतियों में पूजनीय रही है। वे हिंदू धर्म में एक विशेष स्थान रखते हैं और माना जाता है कि उनमें दिव्य शक्तियां हैं जो पहनने वाले के लिए शांति, समृद्धि और कल्याण ला सकती हैं। हालाँकि, सभी रुद्राक्ष मोती असली नहीं होते हैं, और असली और नकली में अंतर करना एक चुनौती हो सकता है। इस लेख में, हम उन विशेषताओं का पता लगाएंगे जो प्रामाणिक रुद्राक्ष को नकल से अलग करते हैं और उन अद्वितीय गुणों को समझेंगे जो उन्हें इतना लोकप्रिय बनाते हैं।

असली रुद्राक्ष: एक अनमोल धार्मिक रत्न:

असली रुद्राक्ष माला में अद्वितीय कंपन और प्राकृतिक आभा होती है जिसे सावधानीपूर्वक निरीक्षण से पहचाना जा सकता है। असली रुद्राक्ष की पहचान करने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

प्राकृतिक स्वरूप: असली रुद्राक्ष मोतियों की सतह खुरदरी होती है और इनमें कोई कृत्रिम पॉलिश या बदलाव नहीं होता है।

जल परीक्षण: पानी में डालने पर असली रुद्राक्ष के मोती डूब जाते हैं, जबकि नकली मोती अपनी हल्की संरचना के कारण तैरने लगते हैं।

गंध परीक्षण: किसी कठोर सतह पर रुद्राक्ष को रगड़ने पर उसमें से एक सुखद, लकड़ी जैसी सुगंध निकलती है, जो नकली रुद्राक्ष में अनुपस्थित होती है।

     4.अष्टमी अच्छी है या बुरी?

“अष्टमी” हिंदू कैलेंडर में एक महत्वपूर्ण दिन है, जो चंद्र माह के आठवें दिन मनाया जाता है। यह सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व रखता है और दुनिया के विभिन्न हिस्सों में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस लेख में, हम यह समझने के लिए “अष्टमी” के विभिन्न पहलुओं का पता लगाएंगे कि यह हमारे जीवन में सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव लाती है या नहीं।

सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व: – हिंदू संस्कृति में, “अष्टमी” को देवी दुर्गा के दिन के रूप में मनाया जाता है, जो स्त्री शक्ति और दिव्य ऊर्जा का प्रतीक है। यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इस दिन देवी दुर्गा ने राक्षस महिषासुर को हराया था। यह त्यौहार उपवास, प्रार्थना और विभिन्न अनुष्ठानों के साथ मनाया जाता है।

Leave a Comment

%d bloggers like this: