shanti group

Sunil Kumar Dutta 

आजमगढ़। जनपद के अहरौला क्षेत्र के मंगरीपुर गौरा गांव निवासी सूबेदार मेजर (रि.) इंद्रविजय सिंह के पुत्र सूरज सिंह ने सेना में कमीशन प्राप्त कर लेफ्टिनेंट बनने का गौरव हासिल किया है। बचपन से ही प्रखर बुद्धि के इस मेधावी युवा की इस उपलब्धि से संपूर्ण जनपद गौरवान्वित है। पिता भी सेना में थे। अत: इस सूरज की संपूर्ण शिक्षा-दीक्षा सैन्य परिवेश में ही हुई थी। प्रारंभिक शिक्षा रानी लक्ष्मीबाई स्कूल से पूरा करने के बाद पिता के स्थानांतरण के कारण पूरा परिवार जयपुर शिफ्ट हो गया। वहां सूरज सिंह ने दूसरी कक्षा उत्तीर्ण ही किया था कि पुन: पिता की सैन्य ड्यूटी के चलते उत्तराखंड के रानीखेत स्थानांतरित होना पड़ा। वहां सूरज की पढ़ाई तीसरी से कक्षा पांचवीं तक ही हो सकी। इसके बाद उनका चयन सैनिक स्कूल बेलगाम कर्नाटक में हो गया। सैनिक स्कूल में सूरज ने अपनी बहुमुखी प्रतिभा से सबको चमत्कृत किया और स्कूल के कप्तान भी बने। अपने पहले ही अवसर में इन्होंने एनडीए उत्तीर्ण कर लिया। पुणे में प्रशिक्षण पूरा करने के बाद देहरादून के भारतीय सैन्य अकादम से एक वर्ष का अंतिम प्रशिक्षण पूर्ण किया और बीते 13 जून को कमीशन प्राप्त किया। प्रशिक्षण के दौरान उत्तम प्रदर्शन के कारण इन्हें कांस्य पदक से सम्मानित किया गया। उनकी इस उपलब्धि से परिवार समेत सभी रिश्तेदार, मित्र, पारिवारिक शुभ चिंतकों में हर्ष की लहर है। जबकि प्रत्येक जनपदवासी का हृदय गर्व से चौड़ा हो गया है।