shanti group

सूरज राय

आजमगढ़। फर्जी मुकदमें में फंसाने के शक में एक युवक को गोली मार दी। चार हमलावरों ने इस घटना को अंजाम दिया। इसके पहले हमलावरों ने इस मामले को लेकर कई बार विवाद किया था और एक दिन पहले धमकी भी दी थी। घटना को अंजाम देने के बाद हमलावर फरार हो गये। मौके पर पहुंची पुलिस घटना के छानबीन में जुटी हुई है। पुलिस का कहना है कि शीघ्र ही नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा। यह घटना पवई थाना क्षेत्र के बलईपुर गांव में घटी। हुआ यह कि गुरूवार को सुबह 10.30 बजे राघवेंद्र प्रताप सिंह उम्र 28 वर्ष पुत्र नरेंद्र सिंह अपना धान का खेत देखकर वापस घर आ रहे थे। इसी दौरान घर से 200 मीटर पहले गांव के कुछ लोगों से उनकी किसी बात को लेकर बहस हो गई। कहासुनी के दौरान दूसरे पक्ष के लोगों ने असलहा निकाल लिया। वह कुछ समझ पाता, उसके पहले ही उन लोगों ने फायर झोंक दिया। गोली राघवेंद्र सिंह के बाएं हाथ की हथेली में लगी और वह लहूलुहान हो गये। फायर करने के बाद हमलावर पक्ष मौके से फरार हो गया। परिजन आनन-फानन में घायल को लेकर अस्पताल पहुंचे, जहां अब उसकी हालत खतरे से बाहर बतायी जा रही है। घायल राघवेंद्र सिंह व गांव के प्रधान सनी सिंह का कहना है कि पुलिस ने गांव के 8 लोगों को शांतिभंग की धाराओं में पाबंद किया था। पाबंद किये गये शशांक व उसके साथ के लोग राघवेंद्र सिंह व प्रधान सनी सिंह पर शक कर रहे थे कि उन्ही लोगों ने पाबंद कराया है। इसी बात को लेकर वह उन दोनों के ऊपर काफी खफा थे। बुधवार की शाम को राघवेंद्र व सनी सिंह को शशांक सिंह ने धमकी भी दी थी कि पुलिस से मिलकर जो कार्रवाई कराये हो, वह बहुत मंहगा पड़ेगा। इसी मसले को लेकर ही गुरूवार को भी कहासुनी शुरू हुई और मामला काफी आगे बढ़ गया। घायल राघवेंद्र सिंह ने 4 लोगों के विरुद्ध तहरीर दिया है। इन चार आरोपियों में गांव के ही शशांक सिंह पुत्र शमशेर सिंह, सत्यम सिंह पुत्र शमशेर सिंह, रणजीत सिंह पुत्र इंद्रजीत सिंह व ज्वाला सिंह पुत्र दमन सिंह शामिल हैं। घटना के बाद से ही सभी आरोपी घर से फरार हैं। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर सीओ फूलपुर रविशंकर प्रसाद, थानाध्यक्ष संजय कुमार व चैकी प्रभारी मित्तूपुर दल-बल के साथ मौके पर पहुंच गये और छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस का कहना है कि सभी आरोपी शीघ्र ही गिरफ्त में होंगे।