एक से एक मोहक प्रस्तुतियों ने मोहा मन, सभी ने सराहा

Denendra Mishra
आजमगढ़। निजामाबाद तहसील के अन्तर्गत राहुल पूर्व माध्यमिक विद्यालय में आयोजित निजामाबाद महोत्सव का शुभारम्भ आयुक्त आजमगढ़ मण्डल आजमगढ़ कनक त्रिपाठी, जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह की उपस्थिति में शहीद मनोज पाण्डेय की माता श्रीमती विमला देवी, शहीद सिनोज कुमार की माता श्रीमती कौलपति देवी तथा शहीद सुनिल यादव की प्रतिनिधि श्रीमती प्रमिला यादव द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। इसी के साथ ही वरिष्ठ कलाकार सूबेदार यादव व भगनू लाल गोड़ द्वारा मंच का फीता काटकर शुभारम्भ किया गया। आयुक्त महोदया व जिलाधिकारी महोदय द्वारा कृषि विभाग, बाल विकास विभाग, पंचायती राज विभाग द्वारा लगाये गये स्टॉल, ब्लैक पाटरी, टेराकोटा उद्योग, एनआरएलएम के स्टॉक का अवलोकन किया गया। निजामाबाद महोत्सव की शुरूआत गणेश वन्दना के साथ प्रारम्भ हुआ। इस महोत्सव में विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम किये गये, जो काफी मनमोहक रहा तथा एक निजामाबाद के इतिहास पर आधारित डाक्यूमेन्ट्री फिल्म भी दिखाई गयी। इस डाक्यूमेन्टी फिल्म में निजामाबाद की ईमारत, ऐतिहासिक धरोहरों को समाहित किया गया है। आयुक्त तथा जिलाधिकारी द्वारा खेल महोत्सव, रंगोली, मेंहदी, चित्रकला महोत्सव का अवलोकन किया गया। इस महोत्सव में सांस्कृतिक नृत्य, गायन, आल्हा, बिरहा, जांघिया, जोगिरा, पवरिया, धोबिया, कुश्ती, रस्सा-कस्सी, खो-खो, कबड्डी, लम्बी दौड़, शहीद सम्मान समारोह, नगर कीर्तन, कवि सम्मेलन, रात मुशायरा, झांकी, रंगोली, मेंहदी, पेंटिंग महोत्सव का आयोजन किया गया। इस अवसर पर आयुक्त महोदया ने अपने सम्बोधन में कहा कि इस तरह के कार्यम करना बहुत ही सराहनीय कार्य है। इस तरह के कार्यम आयोजित होने से गॉव की प्रतिभाओं को मंच मिलता है। इसी के साथ ही जिलाधिकारी ने अपने सम्बोधन में कहा कि किसी भी समाज का अस्तित्व तभी रहता है, जब समाज अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को संजो कर रखता है, हमें युवा पीढिय़ों को सांस्कृतिक धरोहरों के प्रति जोडऩे की जरूरत है। उन्होने कहा कि यह कार्यक्रम जनता का है, इसको कराने में आप सभी के सहयोग की जरूरत है। आयुक्त महोदया तथा जिलाधिकारी द्वारा शहीद मनोज पाण्डेय के पिता त्रिभुवन पाण्डेय माता विमला देवी, शहीद सिनोज कुमार के पिता तुफानी राय माता श्रीमती कौलपति देवी तथा शहीद सुनिल यादव के प्रतिनिधि श्रीमती प्रमिला यादव को शाल व तुलसी का पौधा देकर सम्मानित किया गया।